Mahavir jayanti birth anniersary, greetings and status in hindi

Mahavir jayanti birth anniersary, greetings and status in hindi,mahavir jayanti quotes in hindi, mahavir jayanti thoughts in hindi. Hopefully Preaching of Lord Mahavir ie. right faith (samyak-darshana), right knowledge (samyak-jnana), and right conduct (samyak-charitra) together give us the real path to attain the liberation of one’s self. Happy Mahavir Jayanti!

Mahavir jayanti birth anniersary, greetings and status in hindi,mahavir jayanti quotes in hindi, mahavir jayanti thoughts in hindi,SMS Message Wishes

Mahavir jayanti birth anniersary, greetings and status in hindi,mahavir jayanti quotes in hindi, mahavir jayanti thoughts in hindi, SMS Message Wishes

May the holy words show you… the path to never ending happiness… Sending you warm wishes… Happy Mahavir Jayanti! Checkout below sayings or status on Mahavir jayanti birth anniersary, greetings and status in hindi,mahavir jayanti quotes in hindi, mahavir jayanti thoughts in hindi or you can also our other collection of Happy mahavir jayanti messages and quotes

Mahavir jayanti birth anniersary, greetings and status in hindi

Arihant ki boli
Siddhon ka saar
Acharyon ka path
Sadhuon ka sath
Ahinsa ka prachar
Mubarak ho aapko Mahivar Jaynti ka tyohar.

अरिहंत की बोली
सिद्धों का सार
आचार्यों का पाठ
साधुओं का साथ
अहिंसा का प्रचार
मुबारक हो आपको महिवार जयंती का त्यौहार.

महावीर जयंती के इस पावन प्रव पे
आपको और आपके पुरे परिवार को
मेरे और मेरे परिवार की तरफ से
विशिंग और वैरी वैरी हैप्पी महवीर जयंती

अगर किसी से कुछ सीखा है तोह
इन लोगो से सिखा
सेवा- श्रवण से
मर्यादा : राम से
अहिंसा : बुद्ध से
मित्रता :क्रिशन से
लक्ष्य :एकलव्य से
दान : कर्ण से
और तपस्या:महावीर से
हैप्पी महावीर जयंती

महावीर जिनका नाम है
पलिताना जिनका धाम है
अहिंषा जिनका नारा है
ऐसे त्रिशला नंदन को लाख
प्रणाम हमारी है

 God Mahavir:-
Tu karta woh he jo tu chahta hai
Par hota he woh jo me chahta hu
Tu woh kar jo me chahta hu
Fir wo hoga jo tu chahta ha
Happy Mahavir Jayanti!

शांति और आत्म-नियंत्रण अहिंसा है।

सभी जीवों-जंतु के प्रति सम्मान अहिंसा है।

आप स्वयं से लड़ो, बाहरी दुश्मनों से क्या लड़ना? जो स्वयं पर विजय प्राप्त कर लेंगे उन्हें आनंद की प्राप्ति होगी।

हर एक जीवित प्राणी के प्रति दया रखो क्योकि, घृणा से विनाश होता है।

अहिंसा सबसे बड़ा धर्म है।

खुद पर विजय प्राप्त करना लाखों शत्रुओं पर विजय पाने से बेहतर है।

भगवान् का अलग से कोई अस्तित्व नहीं है। हर कोई सही दिशा में सर्वोच्च प्रयास कर के देवत्त्व प्राप्त कर सकता है।

आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है। असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं, वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच,आसक्ति और नफरत।

प्रत्येक जीव स्वतंत्र है। कोई किसी और पर निर्भर नहीं करता।

सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं, और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं।

एक व्यक्ति जलते हुए जंगल के मध्य में एक ऊँचे वृक्ष पर बैठा है। वह सभी जीवित प्राणियों को मरते हुए देखता है। लेकिन वह यह नहीं समझता की जल्द ही उसका भी यही हस्र होने वाला है। वह आदमी मूर्ख है।

प्रत्येक आत्मा स्वयं में सर्वज्ञ और आनंदमय है। आनंद बाहर से नहीं आता।

Leave a Reply

Please wait...

GET LATEST AND COOL STATUS HERE

We will send a link in your mail box...